blogid : 49 postid : 65

ये बहुमत क्यों मिल गया

Posted On: 15 Mar, 2012 में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

उधर लखनऊ में अखिलेश सूबे के सबसे युवा मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ले रहे थे, इधर एक नेता जी निराश भाव से मुंह लटकाए थे। हाल ही में चुनाव हारने का उनका गम तो समझ में आ रहा था, किन्तु उनका चेहरा कुछ ज्यादा ही लटका था।
मन नहीं माना और पूछ ही डाला…. क्या हुआ? चेहरा हार से कुछ ज्यादा दुखी है। नेता जी ने मौन तोड़ा और बोले… सच दोस्त हो तो आप जैसा। आपने सही समझा। हार-जीत तो माया है, पर इस बार जो हुआ, गलत हुआ। वैसे मेरी इस हालत में गल्ती आपकी भी है। मैं चौका, मेरी गल्ती? बोले… आप मतलब मीडिया की गल्ती। पूरा चुनाव बीता, मैं जीत रहा था। मतदान वाले दिन लगा कि मामला कुछ ग़ड़बड़ हो सकता है तो आप लोगों ने कन्फ्यूज कर दिया। सब कहने लगे हंग एसेंबली.. हंग एसेंबली। मैंने भी उम्मीदें जगा लीं। सोचा, इस चुनाव में जो हुआ सो हुआ, जल्दी ही चुनाव होगा, जीत लेंगे। मैं अकेला अपने आपको ओवरएस्टीमेट कर रहा था, समझ में आता है, किन्तु आप सब सपा को अंडरएस्टीमेट कर रहे थे, यह समझ में नहीं आता। अब आप ही बताइये, इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन खुली सब पलट गया। अब जब बहुमत मिल ही गया है, तो मेरे लिए तो इंतजार पांच साल का हो गया है। वे बड़बड़ाते हुए बढ़े… ये बहुमत क्यों मिल गया… ये बहुमत क्यों मिल गया?
खैर, मैं भी सोचने पर विवश हूं, बहुमत से जनता भले संतोष में हो… तमाम नेता निराश हैं… जल्दी चुनाव जो नहीं होगा।

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Leena के द्वारा
March 16, 2012

sabhi log keh rahe h ki Mayawati Galat thi, kyonki unhone parks, statues main paisa lagaya.lekin koi yeh kyon nahi dekhta ki Mayawati ne samne aakar paisa lagaya h na ki kisi se chupkar . jabki dusre leader hamesha se hi Govt ka paisa apne kisi personal kam main kharch karte h. jabki Mayawati ne aisa nahi kiya. phir kyon hum log unko h galat thera reh h. Rahi baat GUNDARAAJ ki wo toh election k result wale hi din dikh gaya tha jab kisi city main khud DM bhi apni jaan bachakar waha se bhag gaye the. aaj hi news le lo, ‘Maya k officer hataye gaye, Bhartiyo par rok’. kya aap log abb bhi ishe badla nahi kahenge. kya abhi bhi aap log kahengein ki SP govt badla or Gundaraaj ki politics nahi karti. sub karte h, koi jayada toh koi kam. ek baat aur, jab kisi CM, PM ko yaad kiya jata h toh log ushe Manonit CM/PM, yaa bhutpurv CM/PM kehte h, jabki Mayawati k case main waisa nahi h. hum log unko sidhe unke name Mayawati keh kar pukarne lagte h. or dusre leaders ko Manonit etc . se pukarte h. kyon? main sub logo se puchna chati hukyon? aur yeh toh earth h yahan sub ko unki karni bugatni padti h. abhi toh starting h, agaee agee dekhiye hota h kya. jo boya h, wo hum logo ko hi bhugtna padega. koi leader yaa bhagwan nahi ayengein bhugatne ko. baki aap sub log samjhdar h. yeh jo maine yahan kaha h wo kisi party ke favor yaa opposit main nahi h. maine wahi kaha h jo true h. phir bhi SORRY.


topic of the week



latest from jagran